कब पोंगल का त्‍योहार, जानें क्‍या है इस उत्‍सव को मनाने की विधि

Indian Astrology | 12-Jan-2023

Views: 138
Latest-news

पोंगल एक फसल उत्सव है जो तमिलनाडु में चार दिनों तक मनाया जाता है। यह देश के सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक है और मुख्य रूप से भारत के दक्षिणी राज्यों में चार दिनों तक प्रकृति को धन्यवाद देने के लिए मनाया जाता है। जब चावल, गन्ना, हल्दी आदि फसलें काटी जा रही होती हैं, तब यह उत्‍सव मनाया जाता है।

पोंगल 2023

वर्ष 2023 में पोंगल का पर्व 15 जनवरी को रात 8 बजकर 57 मिनट पर शुरू होगा। यह तमिलों का सबसे महत्‍वपूर्ण त्योहार है। देश के अन्‍य हिस्‍सों में इसे मकर संक्रांति के रूप में जाना जाता है। तमिलनाडु में पोंगल चार दिनों का उत्‍सव होता है जिसे थाई पोंगल भी कहा जाता है और इस संपूर्ण काल को उत्तरायणम कहा जाता है।

तमिल कैलेंडर के अनुसार, पोंगल के दिन तमिल वर्ष मरगाज़ी के साथ तमिल महीने थाई के तीसरे दिन के अनुरूप होंगे।

पोंगल का पहला दिन

त्‍योहार के प्रथम दिन पर भोगी फेस्टिवल में भगवान इंद्र की पूजा की जाती है। भगवान इंद्र को वर्षा का देवता माना जाता है इसलिए धरती पर वर्षा के रूप में शांति फैलाने के लिए प्रथम दिन उनका धन्‍यवाद किया जाता है।

इस दिन लोग लकड़ी और गोबर से बनी चीजों को अग्नि में डाल देते हैं। यही वजह है कि प्रथम दिन को भोगी मांतालु कहते हैा। इंद्र देव के लिए गीत गाए जाते हैं और अग्नि के चारों ओर लड़कियां नृत्‍य करती हैं। शीतकालीन संक्रांति के दौरान गर्म रखने के लिए अलाव जलाया जाता है।

भारत के श्रेष्ठ ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

पोंगल का दूसरा दिन

दूसरे दिन के उत्‍सव पर पूजन के साथ ही कुछ रीति-रिवाज किए जाते हैं। इस दिन मिट्टी के बर्तन में घर से बाहर दूध के अंदर चावलों को उबाला जाता है। इन चावलों को अन्‍य सामग्रियों के साथ सूर्य देवता को अर्पित किया जाता है। लोग अपने पारंपरिक कपड़े और गहने भी चढ़ाते हैं। इस रीति में इस्‍तेमाल हुए बर्तनों को पति-पत्‍नी नष्‍ट कर देते हैं। जिस पात्र में चावल पकाए जाते हैं, उस पर हल्‍दी का पौधा बांध दिया जाता है। व्‍यंजनों में नारियल और केले का इस्‍तेमाल किया जाता है।

पूजा का सबसे आम अनुष्ठान सफेद चूने के पाउडर का उपयोग करके पारंपरिक तरीके से घर के सामने चिह्न बनाना है। इस अनुष्ठान का पालन घर की महिला द्वारा सुबह जल्दी स्नान करने के बाद किया जाता है।

पोंगल का तीसरा दिन

उत्‍सव के तीसरे दिन को मट्टु पोंगल कहा जाता है। इसका अर्थ है कि यह दिन गायों को समर्पित है। गायों को रंग-बिरंगी घंटियों, फूलों और मकई के पूले से सजाया जाता है। पोंगल खिलाने के बाद उन्‍हें गांवों में ले जाया जाता है। गायों के गले में बंधी घंटियां गांव के लोगों को आकर्षित करती हैं और पुरुष मवेशियों के भीतर रेस लगाते हैं। बुरी नजर से बचने के लिए गायों की आरती की जाती है। इस समय लोग बहुत आनंद और उल्‍लास में होते हैं और पूरा वातावरण खुशी और उत्‍साह से भर जाता है।

पोंगल का चौथा दिन

पोंगल के आखिरी दिन को क्‍नाउ या कन्‍नुम पोंगल दिवस कहा जाता है। हल्‍दी के पत्ते को अच्‍छी तरह से साफ कर के उसे जमीन के ऊपर रखा जाता है। घर की महिला स्नान करने से पहले मीठे और वेन पोंगल के अवशेष, साधारण चावल, रंगीन चावल, केले, पान के पत्ते, सुपारी और गन्ने के दो टुकड़े उस पत्ते पर रखती है। घर की सभी महिलाएं अपने घर के आंगन में इकट्ठी होती हैं। पत्ती के बीच में चावल रखे जाते हैं और अपने भाइयों के परिवार के फलने-फूलने की प्रार्थना करती हैं। हल्दी का जल, चावल और चूना पत्थर से भाइयों की आरती की जाती है। और इस पानी का छिड़काव घर के सामने वाले कोलम पर किया जाता है।

यह भी पढ़ें: साल 2023 में इन राशियों से खत्‍म होगी शनि की साढ़े साती और ढैय्या

थाई पोंगल

पोंगल के दिन सूर्योदय के समय खुले स्थान पर भोजन बनाया जाता है। लोग चावल और दूध को एक साथ पकाते हैं और दूध को उबलने देते हैं। दूध को छलकने दिया जाता है क्योंकि इसे शुभ माना जाता है। एक बार जब यह पक जाता है, तो इसमें घी, काजू, किशमिश और गुड़ का तड़का लगाया जाता है। इस व्यंजन को पोंगल के नाम से जाना जाता है और इसे पकने के बाद भगवान सूर्य को फसल के लिए धन्यवाद देने के संकेत के रूप में परोसा जाता है। इस पोंगल को बाद में घर के लोगों को परोसा जाता है।

पोंगल से जुड़ी कथा

पोंगल के बारे में प्रसिद्ध किंवदंतियों में से एक यह है कि भगवान शिव ने एक बार अपने बैल नंदी को पृथ्वी पर जाने के लिए कहा और लोगों से तेल मालिश करने और हर दिन स्नान करने और महीने में एक बार भोजन करने के लिए कहा। इसके बजाय नंदी ने लोगों से कहा कि रोज भोजन करो और महीने में एक बार रोज तेल से स्नान करो। भगवान शिव क्रोधित हुए और उन्हें हमेशा के लिए पृथ्वी पर रहने का श्राप दे दिया। उसे खेतों की जुताई करने और लोगों को अधिक भोजन पैदा करने में मदद करने के लिए कहा। इसलिए लोग फसल कटने के बाद फसलों और मवेशियों के साथ इस त्योहार को मनाते हैं।

हालांकि, पोंगल को तमिलनाडु में मुख्य त्योहार के रूप में मनाया जाता है, लेकिन यह आंध्र प्रदेश, श्रीलंका और मालदीव जैसे अन्य स्थानों में भी मनाया जाता है। यह तमिल सौर कैलेंडर के अनुसार महीने की शुरुआत में पड़ता है। पोंगल नाम मिठाई पकवान पोंगल (चावल की खीर) के नाम पर रखा गया है जिसे त्योहार के दौरान परोसा जाता है।

पोंगल के पीछे सबसे प्रसिद्ध कहानी गोकुल में भगवान कृष्ण की है। बारिश के देवता भगवान इंद्र ने गोकुल को क्रोध से भर दिया था। भगवान कृष्ण ने विशाल गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी उंगली पर उठाकर गांव के लोगों की रक्षा की थी। अंत में भगवान इंद्र ने क्षमा मांगी और गोकुल के लोगों को समृद्धि प्रदान की।

बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा

पोंगल का ऐतिहासिक और ज्‍योतिषीय महत्‍व

पोंगल ज्योतिष में एक महान शुरुआत का प्रतीक है क्योंकि यह वह समय है जब सूर्य अगले छह महीनों के लिए उत्तर की ओर बढ़ता है। यह हिंदू धर्म में एक शुभ समय माना जाता है। इस काल में अनेक शुभ आयोजन होते हैं।

पोंगल मुख्य रूप से भारत के दक्षिणी राज्यों विशेषकर तमिलों में मनाया जाता है। यह 200 से 300 ईसा पूर्व के बीच संगम युग में द्रविड़ फसल उत्सव के रूप में खोजा गया था। इसका उल्लेख संस्कृत शास्त्रों में भी मिलता है।