जब अपनी ही राशि में बैठा हो मंगल, तो क्‍या होता है?

Indian Astrology | 24-Nov-2022

Views: 136
Latest-news

ज्‍योतिष शास्‍त्र में ग्रहों का मनुष्‍य के जीवन पर प्रभाव पड़ने की बात कही गई है। ज्‍योतिष में मंगल ग्रह अहम भूमिका निभाता है। यह ग्रह एनर्जी के स्रोत को दर्शाता है और हिंदू धर्म एवं वैदिक ज्‍योतिष (Vedic astrology) में इसका एक अलग महत्‍व है। बृहस्‍पति और शनि जैसे बाहरी ग्रहों में मंगल भी शामिल है। पृथ्‍वी और मंगल दोनों सूर्य के चारों ओर चक्‍कर लगाते हैं। मंगल पृथ्वी द्वारा अनुरेखित वृत्त के बाहरी भाग में घूमता है। केवल शुक्र और बुध ही आंतरिक घेरे में या सूर्य और पृथ्वी के बीच दिखाई दे सकते हैं। हालांकि, कभी-कभी, कुछ अवसरों पर चंद्रमा को सूर्य और पृथ्वी के बीच में भी देखा जा सकता है। मंगल का रंग लाल है और इसका प्रकाश लाल रंग का है। यह रात में चमकता है और इसे बहुत आसानी से पहचाना जा सकता है।

 

विद्वान ज्योतिषियों से करें फ़ोन पर बात और अपने जीवन की हर समस्या का पाएं समाधान! 

 

हिंदू ज्‍योतिष में मंगल का महत्‍व

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार मंगल को भूमि पुत्र कहा जाता है। वह पृथ्‍वी ग्रह के पुत्र माने गए हैं। प्राचीन भारत की पुरानी कहानियों में इसे पृथ्‍वी के पुत्र अंगारक के रूप में चित्रित किया गया है। मंगल को युद्ध का देवता भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि जब पृथ्वी समुद्र के विशाल विस्तार में डूबी हुई थी, तब भगवान विष्णु ने अपने वराह अवतार में पृथ्वी को उठाकर बाहर निकाला और एक उपयुक्त कक्षा में रखा।

धरती माता कृतज्ञ हो गई और उन्‍होंने भगवान से स्त्री वर मांगा। भगवान एक वरदान देने पर सहमत हो गए। परिणाम स्वरूप ईश्वरीय मिलन से मंगल का जन्म हुआ। इसलिए यह कहानी मंगल को भगवान शिव और धरती माता के पुत्र होने से संबंधित है।

हिंदू धर्म में मंगल को भगवान मुरुगन का प्रतिनिधित्‍व करने वाला भी माना जाता है। उन्हें आकाशीय पिंडों का कमांडर-इन-चीफ भी माना जाता है। यह "सामवेद" पर भी शासन करता है।

पश्चिमी ज्योतिष (Astrology) में, यह माना जाता है कि मंगल बौद्धों और रोमनों का देवता है। इसे युद्ध और शिकार का देवता भी माना जाता है। मंगल का दूसरा नाम संस्कृत में कूज और तमिल में सेवई है। वह विवादों, विनाश और युद्ध के देवता और ऊर्जा और शक्ति के देवता भी हैं।

 

यह भी पढ़ें: यदि मंगल लग्न का स्वामी हो और नीच का भी हो, तो जीवन पर इसके क्‍या प्रभाव होते हैं?

 

मंगल की राशियां - Signs of Mars

मंगल का दो राशियों पर आधिपत्‍य है मेष और वृश्चिक राशि। जब मंगल इन दो राशियों यानि की स्‍वराशि में स्थित होता है, तो उसका जातक के जीवन पर अलग प्रभाव देखने को मिलता है।

मेष राशि का शासक ग्रह, मंगल, इच्छा, आक्रामकता, जुनून, क्रोध और मौलिक प्रवृत्ति पर शासन करता है। रोमन पौराणिक कथाओं में इसे युद्ध का देवता माना जाता है। मेष राशि के लोगों में उनके स्‍वामी ग्रह के सभी गुण दिखाई देते हैं।

वृश्चिक राशि का स्‍वामी भी मंगल ग्रह को ही माना जाता है। मंगल आक्रामकता, जीवन शक्ति, इच्छा और कामुक प्रवृत्ति पर शासन करता है।

 

जब मंगल स्‍वराशि में हो

यदि मंगल अपनी राशि (मेष या वृश्चिक) में सूर्य से दृष्ट हो तो व्यक्ति धनवान, सुंदर, विद्वान, चिड़चिड़े, चोरों का नेता और बुद्धिमान होगा।

मंगल अपनी राशि में चन्द्रमा की दृष्टि में हो तो माता की शीघ्र हानि होगी। जातक दुबले-पतले, अपनों से घृणा करने वाला, मित्रों से रहित, ईर्ष्यालु और लड़कियों से प्रेम करने वाला होगा।

 जिस व्यक्ति का मंगल अपनी राशि में बुध की दृष्टि में हो वह दूसरों का धन हड़पने में निपुण होता है। वह असत्य बोलेगा, प्रेम के देवता के प्रति समर्पित होगा (अर्थात अत्यधिक कामेच्छा वाला), दूसरों से घृणा करेगा और शिष्टाचार का स्वामी होगा।

गुरु की दृष्टि में मंगल की अपनी राशि हो तो वह विद्वान, वाणी में मधुरता, न्यायप्रिय, माता-पिता के प्रति समर्पित, भरपूर धन वाला, अतुलनीय और भगवान के समान सम्माननीय होगा।

मंगल की अपनी राशि शुक्र की दृष्टि में हो तो स्त्री के कारण कष्ट होता है। वह एक से अधिक बार महिलाओं के माध्यम से धन खो देगा।

शनि की दृष्टि में मंगल के साथ एक चोर, नायक, निर्दयी, रिश्तेदारों से रहित और "श्रेष्ठ महिला" का पति होगा।

 

 बृहत् कुंडली में छिपा है, आपके जीवन का सारा राज, जानें ग्रहों की चाल का पूरा लेखा-जोखा  

 

कैसे होते हैं मेष राशि के लोग

मेष राशि राशि चक्र की पहली राशि है और इस राशि पर मंगल की सत्ता होती है। मेष राशि वाले बोल्ड और महत्वाकांक्षी होते हैं। ये भावुक, प्रेरित और आत्मविश्वासी नेता होते हैं। ऊर्जा और गतिशीलता से भरे रहते हैं। ये लोग अपनी शर्तों पर जीते हैं, अक्सर अपनी मान्यताओं, आदर्शों और विचारों से समझौता करने को तैयार नहीं होते हैं। ये बहुत मासूम लेकिन अहंकार से भरे होते हैं।

ये लोग नेतृत्‍व करने का गुण लेकर ही पैदा होते हैं। आपका आत्मविश्वास हमेशा आपके आसपास के लोगों को प्रेरित करता है। यह आत्मविश्वास कठिन परिस्थितियों में भी बना रहता है। मेष बेहद स्वतंत्र प्राणी हैं और इनकी मजबूत राय होती है। आप अपने विचारों पर टिके रहते हैं और शायद ही कभी दूसरों के सुझावों का स्वागत करते हैं।

 

ऑनलाइन सॉफ्टवेयर से मुफ्त जन्म कुंडली प्राप्त करें

 

कैसे होते हैं वृश्चिक राशि के लोग

वृश्चिक राशि वाले गहन चिंतन वाले होते हैं। वे अपने जुनून, मुखरता, दृढ़ संकल्प और निर्णायकता के लिए जाने जाते हैं। वृश्चिक राशि को राशि चक्र की सबसे कामुक राशि भी माना जाता है।

स्कॉर्पियोस हमेशा सत्य की तलाश में रहते हैं। वृश्चिक राशि के व्यक्ति केंद्रित और प्रतिस्पर्धी होते हैं। जब वे कुछ चाहते हैं तो उसे पाकर ही मानते हैं। वृश्चिक राशि के जातक बेहद बहादुर और साहसी होते हैं। स्कॉर्पियोस जीवन में चुनौतियों से डरते नहीं हैं।

वृश्चिक राशि वाले दूसरों के प्रति वफादार रहते हैं। स्कॉर्पियोस विश्वास और ईमानदारी को महत्व देते हैं और वे उम्मीद करते हैं कि उनके साथी भी उसी तरह होंगे। वृश्चिक राशि का व्यक्ति जिस व्यक्ति का सम्मान करता है और करीब रखता है, उसके साथ अद्भुत वफादारी, उदारता और दयालुता का व्यवहार करता है।

रिश्तों में, स्कॉर्पियोस जल्दी से क्रोधित हो जाते हैं। वे अपने प्रियजनों और अपनों के मामले में थोड़े अधिक स्वामित्व वाले होते हैं। वृश्चिक राशि के लोग 12 राशियों में से सबसे ज्‍यादा रहस्यमय और गुप्त होते हैं। स्कॉर्पियोस शायद ही कभी लोगों को अपनी भावनाओं की रक्षा के लिए और अपने गुप्त चरित्र के कारण अपने बारे में कुछ बताते हैं।

वृश्चिक राशि / Vrishchik Rashi के लोग दूसरों के द्वारा नियंत्रित होना पसंद नहीं करते हैं। वे हमेशा हावी होना चाहते हैं और दूसरों को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहते हैं। वे अपना व्यवहार नहीं बदल सकते।

कुछ लोगों के लिए मंगल शुभ तो वहीं कुछ लोगों के लिए मंगल कम शुभ हो सकता है और कुछ के लिए यह मारक हो सकता है। इस स्थिति में लग्न में मंगल किस राशि में बैठा है, इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी हो जाता है। किसी ग्रह का फल जानने के लिए ग्रह के प्राकृतिक भावों को समझना, जन्म कुंडली (Janam Kundali) में ग्रह की स्थिति को देखना और ग्रह की गृह स्थिति को देखना आवश्यक है। इन सब बातों के अलावा हमें मंगल के परिणामों को पूरी तरह से समझने के लिए कुछ और चीजों को देखने की जरूरत है।