शरीर के अंग फडकने का शुभ व अशुभ विचार

Indian Astrology | 03-Apr-2020

Views: 866

ज्योतिष शास्त्र के प्रमुख अंगों में सामुद्रिक शास्त्र भी एक है। सामुद्रिक शास्त्र मुख, मुखमण्डल तथा सम्पूर्ण शरीर के अध्ययन की विद्या है। भारत में यह वैदिक काल से ही प्रचलित है। गरुड पुराण में सामुद्रिक शास्त्र का वर्णन मिलता है। सामुद्रिक शास्त्र में मानव शरीर के विभिन्न अंगों के अधार पर व्यक्ति के भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में बताया गया है। सामुद्रिक शास्त्र में अंगों के फड़कने से संबंधित भी कई बातें बताई गई हैं, जो हमें भविष्य में होने वाली अच्छी-बुरी घटनाओं के बारे में संकेत करती है। इन्हीं बातों को हमारे समाज में शकुन-अपशकुन से जोड़कर देखा जाता है। अन्य प्राणियों की तुलना में हमारा शरीर अधिक संवेदनशील होता है। यही कारण है कि भविष्य में होने वाली घटना के प्रति हमारा शरीर पहले ही आशंका व्यक्त कर देता है। शरीर के विभिन्न अंगों का फड़कना भी भविष्य में होने वाली घटनाओं की जानकारी देने का एक माध्यम है। अंगों के फड़कने से भी शुभ-अशुभ की सूचना मिलती है। प्रत्येक अंग की एक अलग ही विशेषता है और उनके फडकने का एक अलग ही अर्थ होता है। अंगों के फड़कने का महत्व प्राचीन समय से ही चला आ रहा है, प्रत्येक शास्त्र या विश्व का कोई भी व्यक्ति इस विज्ञान से थोडा बहुत परिचित है तथा घर परिवार या समाज में सभी इसके फल को जानते है आज हम आपको सामुद्रिक शास्त्र में लिखे कुछ ऐसे ही संकेतों के बारे में बता रहे हैं तो आइये जानते हैं, इसके बारे में,

शुभ व अशुभ विचार-

सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार अंगों का फरकना कई शुभ अशुभ फलों को देने वाला होता है| आँख सबसे अधिक फड़कती है और लोग व्याकुल रहते हैं, कि इनके फरकने का क्या फल होगा| दायीं आँख ऊपर की ओर के पलक में फड़कती है तो धन,कीर्ति आदि की वृद्धि होती है, नौकरी में पदोन्नति होती है नीचे की पलक फड़कती है तो अशुभ होने की संभावना रहती है|

बाँयी आँख की ऊपरी पलक फड़कती है तो दुश्मन से और अधिक दुश्मनी हो सकती है,नीचे की पलक फड़कती है तो किसी से बेवजह बहस हो सकती है या अपमानित होना पड़ सकता है|

बाँयी आँख की नाक की ओर का कोना फड़कता है जिसका फल शुभ होता है.पुत्र प्राप्ति की सूचना मिल सकती है.या किसी प्रिय व्यक्ति से मुलाक़ात हो सकती है,

दांयी आँख फड़कती है तो यह शुभ फलदायक होता है.लेकिन अगर किसी स्त्री की दांयी आँख फड़कती है तो उसे अशुभ माना जाता है|

दोनों आँखे एक साथ फड़कती हो तो चाहे वह स्त्री की हो या पुरुष की, उनका फल एक जैसा ही होता है| किसी बिछड़े हुए अच्छे मित्र से मुलाक़ात हो सकती है|

दांयी आँख पीछे की ओर फड़कती है तो इसका फल अशुभ होता है| बाँयी आँख ऊपर की और फड़कती हो तो इसका फल शुभ होता है,स्त्री की बाँयी आँख फड़कती हो तो शुभ फल होता है|

किसी व्यक्ति के माथे पर अगर हलचल होती है तो उसे भौतिक सुखों की प्राप्ति होती है वहीं कनपटी के पास फड़कन पर धन लाभ होता है।

अगर इंसान के दोनों गाल एक साथ फड़कते हैं तो इससे धन लाभ की संभावना बढ़ जाती है।

अगर किसी इंसान के होंठ फड़क रहे है तो इसका अर्थ है उसके जीवन में नया दोस्त आने वाला है।

कंठ गला तेज गति से फड़कता है तो स्वादिष्ट और मनपसंद भोजन मिलता है, किसी स्त्री का कंठ फड़कता है तो उसे गले के आभूषण प्राप्त होते हैं|

कंठ का बांया भाग फड़कता है तो धन की उपलब्धि कराने वाला होता है|

किसी स्त्री के कंठ के निचले हिस्से का फड़कना कम मूल्य के आभूषणों की प्राप्ति की सूचना देता है,कंठ का ऊपरी भाग फड़कता है तो सोने की माला मिलने की संभावना बढ़ जाती है|

सिर के बाँयी ओर के हिस्से में फड़कन हो तो इसे बहुत ही शुभ माना गया है, आने वाले दिनों में यात्रा करनी पड़ सकती है| यदि आपकी यात्रा बिजनेस से सम्बंधित है तो ज्यादा नहीं तो थोडा बहुत लाभ अवश्य होगा|

आपके सिर के दांयी ओर के हिस्से में फड़कन होती है तो यह शुभ फलदायक स्थिति है आपको धन,किसी राज सम्मान, नौकरी में पदोंन्नती, किसी प्रतियोगिता में पुरस्कार, लाटरी में जीत, भूमि लाभ आदि की प्राप्ति हो सकती है|

यदि दाहिना कान फड़फड़ाता है तो पद बढ़े, अच्छे समाचार की प्राप्ति हो, विजय मिले।

यदि बांये कान का पिछला भाग फडक़ ता है तो मित्र से बुलावा आता है अथवा कोई खुशखबरी मिलती है। यदि बांया कान बजे तो बुरी खबर सुनने को मिलती है।

यदि जीभ फड़के तो लड़ाई झगड़ा होता है, विजय मिलती है।

अगर आपका दाया कन्धा फड़कता है तो यह इस बात का संकेत है कि आपको अत्याधिक धन लाभ होने वाला है। वहीं बाएं कंधे के फड़कने का संबंध जल्द ही मिलने वाली सफलता से है। परंतु अगर आपके दोनों कंधे एक साथ फड़कते हैं तो यह किसी के साथ आपकी बड़ी लड़ाई को दर्शाता है।

अगर आपकी दाई कोहनी फड़कती है तो यह इस बात की तरफ इशारा करती है कि भविष्य में आपकी किसी से साथ बड़ी लड़ाई होने वाली है। लेकिन अगर बाईं कोहनी में फड़कन होती है तो यह पता चलता है कि समाज में आपकी प्रतिष्ठा और मान-सम्मान बढ़ने वाला है।

पीठ के फड़कने का अर्थ है कि आपको बहुत बड़ी समस्याओं को झेलना पड़ सकता है।

अगर आपका दाया कन्धा फड़कता है तो यह इस बात का संकेत है कि आपको अत्याधिक धन लाभ होने वाला है। वहीं बाएं कंधे के फड़कने का संबंध जल्द ही मिलने वाली सफलता से है। परंतु अगर आपके दोनों कंधे एक साथ फड़कते हैं तो यह किसी के साथ आपकी बड़ी लड़ाई को दर्शाता है।

आपके सिर का पिछला हिस्सा फड़कता है तो समझ लीजिए कि आपका विदेश जाने का योग बन रहा है, और वंहा आपको धन की प्राप्ति भी होने वाली है.लेकिन अपने देश में लाभ की कोई संभावना नहीं है आपके सिर के अगले हिस्से में फड़कन हो रही है तो यह स्थिति स्वदेश या परदेश दोनों में ही धन मान प्राप्ति का कारण बन सकती है.

आपका सम्पूर्ण सिर फड़क रहा है तो यह सबसे अधिक शुभ स्थिति है आपको अचानक धन लाभ हो सकता है, मुकद्दमे में जीत हो सकती है, राजसम्मान मिल सकता है, या फिर भूमि की प्राप्ति हो सकती है|

सम्पूर्ण मूँछो में फड़कन है तो इसका फल बहुत ही शुभ माना गया है इससे दूध,दही,घी,धन धान्य का योग बनता है|

अगर किसी व्यक्ति की कमर का सीधा हिस्सा फड़कता है तो यह इस बात का संकेत है कि भविष्य में धन लाभ की संभावनाएं हैं।


अभिमंत्रित मूंगा रत्न ख़रीदने के लिए यहां क्लिक करें।


बाजू फडफ़डा़ती है तो धन और यश की प्राप्ति होती है तथा बांई ओर की बाजू फडफ़डाए तो नष्ट अथवा खोई हुई वस्तु की प्राप्ति हो जाती है।

किसी व्यक्ति के दाहिने हाथ का अंगूठा फड़फड़ाये तो उसकी अभिलाषा पूर्ति में विलबं होता है और हाथ की अंगुलियां फडफ़डा़यें तो अभिलाषा की पूर्ति के साथ-साथ किसी मित्र से मिलन होता है।

किसी व्यक्ति के हाथ की हथेली में फड़फड़ाहट हो तो ये शुभ शकुन है। उसे आने वाले समय में धन-सपंदा की प्राप्ति होती है।

हथेली के किसी कोने में फडफ़डा़हट हो तो निकट भविष्य में व्यक्ति किसी विपदा में फसं जाता है।

बायें हाथ की हथेली में फड़फड़ाहट हो और वह व्यक्ति रोगी हो तो उसे शीघ्र ही स्वास्थ्य लाभ हो जाता है।

जहां कमर की दाहिनी ओर की फड़फड़ाहट किसी विपदा का संकेत देती है, वहीं बांई आरे की फड़फड़ाहट किसी शुभ समाचार का संकेत देती है।

छाती  में फड़फडाहट होना मित्र से मिलने की सूचना, छाती के दाहिनी आरे फडफ़डा़हट हो तो विपदा का संकेत, बांयी ओर फड़फड़ाहट हो तो जीवन में सघंर्ष और मध्य में फडफ़डाहट हो तो व्यक्ति को लोक प्रियता मिलती है।

आपके पेट में फड़कन है तो यह अन्न की समृद्धि की सूचना देता है| यदि पेट का दांया हिस्सा फड़क रहा है तो घर में धन दौलत की वृद्धि होगी सुख और खुशहाली बडती है| अगर आपके पेट का बांया हिस्सा फड़कता है तो धन समृद्धि धीमी गति से बढ़ती है वैसे यह शुभ नहीं है, पेट का ऊपरी भाग फड़कता है तो यह अशुभ होता है, लेकिन पेट के नीचे का भाग फड़कता है तो स्वादिष्ट भोजन की प्राप्ति होती है|

आपके दांये घुटने में फड़कन है तो आपको धन की प्राप्ति हो सकती है, और यदि दांये घुटने का निचला हिस्सा फड़क रहा है तो यह शत्रु पर विजय हासिल करने का संकेत है, आपके बांये घुटने का निचला हिस्सा फड़क रहा है तो आपके कार्य पूरा होने की संभावना बढ़ जाती है|

दाई पैर के तलवे के फड़कने का संबंध सामाजिक प्रतिष्ठा में हानि से और बाएं पैर के फड़कने का अर्थ निकट भविष्य में यात्रा से है।


Create Free Online Kundali by Birth Date and Time at Indian Astrology