पूजा कक्ष और पूजा वेदियों

Raju Gupta | 10-Nov-2014

Views: 6556
Latest-news

आर्थिक और सर्व सम्पनाता के लिए ज्योतिष के अनुसार घर में पूजा कक्ष और पूजा वेदियों भाग-1

पूजा के कमरे और वेदियों हर विश्वास प्रणाली में दुनिया भर में पाए जाते हैं | ऐसे दिव्य स्थानों का सही स्थान हमेशा एक चर्चा की बात और मिथकों से भरा रहा है |

इस लेख के माध्यम से मैं वेदियों और पूजा कक्ष की सही स्थिति समझने की कोशिश करूँगा |

सब से पहले हमें घर का पूजा कक्ष समझना चाहिए | यह मंदिर, मस्जिद, चर्च आदि नहीं है | यह भगवान से कनेक्ट करने के लिए और इस प्रकृति माता से अधिकतम प्राप्त करने के लिए प्रार्थना करने के लिए एक निजी जगह है |

इसलिए इस अर्थ में यह गहरे ध्यान या योग के लिए एक जगह नहीं है | सामान्य तौर पर यह सब सांसारिक चीजें प्राप्त करने के लिए परमात्मा को एक कनेक्ट है |

पूजा कक्ष और पूजा घर बनाने का निर्णय लेने से पहले हम सटीक आयाम में हमारे घर का नक्शा योजना को निम्नलिखित रूप में दिखाया गया 9 बराबर भागों में चिह्नित करना चाहिए | डरो मत अगर नक्शा योजना में कुछ हिस्सा गायब या बढ़ गया है |

अब इन 9 बराबर भागों को क्षेत्र कहा जाता है | क्षेत्र दिशाओं से अलग होते हैं |

तो पहली बात यह है कि आप अपनी वेदी या पूजा कक्ष का निर्माण उस क्षेत्र में कर सकते हैं जो आपके घर का सकारात्मक क्षेत्र है |

वेदी या पूजा कक्ष के निर्माण के लिए दक्षिण, पश्चिम, उत्तर-पश्चिम और उत्तर मुखी मकान के लिए पूर्व -दक्षिण , दक्षिण , पूर्व और उत्तरी क्षेत्र अच्छा क्षेत्र में है |

वेदी या पूजा कक्ष के निर्माण के लिए दक्षिण पूर्व, उत्तर-पूर्व, पूर्व और दक्षिण पश्चिम मुखी मकान के लिए उत्तर-पूर्व, उत्तर-पश्चिम, पश्चिम और दक्षिण- पश्चिम क्षेत्र अच्छा क्षेत्र हैं |

निम्न चित्र में सभी 8 दिशाओं के लिए अच्छा क्षेत्र पीले हाइलाइटर के साथ चिह्नित किए हैं |

अब वेदी या पूजा कक्ष के निर्माण के लिए क्षेत्र के चयन के बाद भगवान से प्रार्थना करते समय मुख की दिशा क्या हो निर्धारण का प्रश्न आता है |

आम तौर पर पूजा करते समय हम पूरब दिशा की ओर मुख करना चाहिए अगर आप ज़मीन पर वेदी या पूजा कक्ष का निर्माण कर रहे हैं | अगर आप ज़मीन से ऊंचाई पर वेदी या पूजा कक्ष का निर्माण कर रहे हैं तो आपको पूजा के लिए पश्चिम दिशा का सामना करना चाहिए |

घरों में पूजा घर या पूजा वेदी ज़मीन से 4 फीट ऊपर बनाना चाहिए| क्योंकि अब घर बहुत छोटे और मल्टी स्टोरी मंजिल पर हैं और धूल और अन्य संक्रमण घरों की फर्श पर रहेते हैं ऐसे में भगवान के प्रति अनादर और असम्मान होता है |

अधिकतर वेदी स्थान के लिए सिफारिश की है और हम लोगों को घर में पश्चिम दिशा का सामना करके पूजा करनी चाहिए |

अगला सवाल वेदी या पूजा कक्ष के निर्माण किया जाने वाले मेटीरियल का आता है |

पूर्व, दक्षिण पूर्व, और दक्षिण क्षेत्रों सेक्टर के लिए, आप लकड़ी सामग्री का उपयोग कर सकते हैं | उत्तर पश्चिम, उत्तर और उत्तर-पूर्व के लिए धातु,प्लास्टिक का उपयोग कर सकते हैं | दक्षिण पश्चिम, पश्चिम क्षेत्र के लिए मिट्टी या पत्थर, लकड़ी के सामग्री का उपयोग करें |

दिशा संबंधित नियमों उत्तरी गोलार्द्ध घरों के लिए लागू है | दक्षिणी गोलार्द्ध देशों के लिए विपरीत दिशा-निर्देश का पालन करें |

अपनी आकांक्षा के अनुसार शुभ वेदी का निर्माण करने के लिए शुभ क्षेत्र का चयन करें और पूर्व या पश्चिम दिशा में मुख कर के पूजा करें |

chart1

chart2

chart3

chart4

chart5

chart6

chart7

chart8