ऑनलाइन पूजा के द्वारा करवाएं जन्मकुंडली में स्थित अशुभ ग्रहों की शांति

Indian Astrology | 10-May-2020

Views: 644

वर्तमान युग में जिसे देखो वही परेशान और दुःखी है। घर में सुख-शांति का अभाव देखने को मिलता है, कामकाज को लेकर दिक्कते आती हैं, धन का अभाव है, कोई न कोई प्राकृतिक आपदा लोगों को घेरे हुए है, इसके पीछे कई कारण होते हैं, परन्तु सबसे बड़ा कारण हमारी जन्मकुंडली में स्थित ग्रहों की अशुभ स्थिति है। कुंडली में स्थित अशुभ ग्रहों की चाल इंसान के जीवन में तथा घर में इस कदर हावी हो जाती है कि इंसान घर से दूर भागने की सोचता है, राक्षसी प्रवृत्ती का हो जाता है, रोजमर्रा के हिंसात्मक लड़ाई-झगडे, घर में कलह, धन की कमी और बेवजह उत्पन्न होने वाले कलह से छुटकारा पाना चाहता है। लोगों की इस समस्या को ध्यान में रखते हुए और उनके जीवन में आ रहे उतार-चढाव को दूर करने के लिए ही हमने आपके लिए अनुभवी पंडितजी द्वारा ऑनलाइन पूजा करवाने का आयोजन किया है, जिसके माध्यम से आप घर पर बैठकर ही इस सेवा का लाभ उठा सकते हैं।

ज्योतिष की मानें तो हर कोई किसी न किसी ग्रह दोष से ग्रस्त रहता है, कई बार उसे पता नहीं चलता कि किस वजह से उसकी जिंदगी में तूफान थमने का नाम नहीं ले रहा है| किस वजह से जीना मुहाल हो रहा है, ग्रहों के अशुभ प्रभाव के कारण जीवन में अनेक तरह की समस्‍याएं आती हैं। ग्रहों का प्रकोप इतना खतरनाक होता है कि कोई व्‍यक्‍ति अपने ही हाथों से खुद को बर्बाद कर लेता है। ग्रहों के अशुभ प्रभाव के कारण आपका जीवन नर्क बन सकता है, कोई भी ग्रह अशुभ स्‍थान में बैठा हो तो वह व्‍यक्‍ति के जीवन में विपरीत परिस्थितियां पैदा करता है। जिस कारण व्‍यक्‍ति का आत्‍मबल टूटने लगता है और उसका जीवन तनाव और चिंताओं से घिर जाता है, नवग्रहों यानि नौ ग्रहों को शांत करने के लिए नवग्रह पूजन ही एकमात्र समाधान है।


ऑनलाइन पूजा का महत्व-

यह पूजा कराने से आपकी कुंडली में स्थित जो भी अशुभ ग्रह है, उनकी शांति करवाई जाती है, कुंडली में अगर शनि की साढ़ेसाती चल रही हैं, तो शनि शांति पूजा, कालसर्प दोष या राहू और केतु की पीड़ा से मुक्ति पाने के लिए राहू शांति पूजा, केतु शांति पूजा का आयोजन किया जाता है। बुरे कर्मों के अलावा कई बार किसी दोष के चलते भी ग्रह-नक्षत्रों की स्थिति अशुभ हो जाती है। मानसिक अशांति के लिए चन्द्रमा की पूजा की जाती है| घर की कलह दूर करने के लिए गृह क्लेश शांति पूजा, दरिद्रता से मुक्ति पाने के लिए महालक्ष्मी पूजा करवाई जाती है, इसके अतिरिक्त आपकी कुंडली में जो भी ग्रह आपके जीवन में दुःख का कारण हैं, उनकी पूजा करवाई जाती है। इस पूजा के प्रभाव से आपके जितने भी रुके हुए काम हैं, वो पूरे हो जाते हैं। शारीरिक और मानसिक चिंताएं दूर होती हैं। कुंडली में जो ग्रह घर की अशांति के लिए जिम्मेदार है, उनके अशुभ प्रभाव को पूजा द्वारा कम किया जाता है।

यह भी पढ़ें: जीवन में उन्नति चाहते हैं तो कुंडली के भाग्य स्थान को करें मजबूत, बन जाएंगे भाग्यवान


कैसे कराएं ऑनलाइन पूजा-

जन्मकुंडली में स्थित अशुभ ग्रहों को शांत करने और घर में सुख-शांति, धन-संपत्ति लाने के लिए ही हमारे अनुभवी पंडित जी द्वारा ऑनलाइन पूजा का आयोजन किया जाता है, जिसके माध्यम से आपके जीवन में किसी तरह के कष्ट उत्पन्न न हो, और आपको पूर्ण रूप से ग्रहों के अशुभ प्रभावों से मुक्ति मिल सकें और आप सुख से अपना जीवन व्यतीत कर सकें। इस पूजा के लिए वांछित जानकारी का होना जरुरी है। जिस जातक के सुखी जीवन के लिए आप ये पूजा करवाना चाहते है, उसका नाम, जन्म-स्थान, गोत्र, पिता का नाम अवश्य ज्ञात होना चाहिए।

नवग्रह पूजन के लिए सबसे पहले ग्रहों का आह्वान किया जाता है। उसके बाद उनकी स्थापना की जाती है। फिर बाएँ हाथ में अक्षत लेकर मंत्रोच्चारण करते हुए दाएँ हाथ से अक्षत अर्पित करते हुए ग्रहों का आह्वान किया जाता है। इस प्रकार सभी ग्रहों का आह्वान करके उनकी स्थापना की जाती है। इसके उपरांत हाथ में अक्षत लेकर मंत्र उच्चारित करते हुए नवग्रह मंडल में प्रतिष्ठा के लिये अर्पित करें। अब मंत्रोच्चारण करते हुए नवग्रहों की पूजा करें। ध्यान रहे पूजा विधि किसी विद्वान ब्राह्मण से ही संपन्न करवायें। पूजा नवग्रह मंदिर में भी की जा सकती है।

नवग्रह पूजन से कोई एक ग्रह नहीं बल्कि पूरे नौ ग्रह प्रसन्‍न होते हैं और आपको एकसाथ नौ ग्रहों की कृपा प्राप्‍त होती है। अगर आपकी कुंडली में कोई ग्रह नीच या अशुभ स्‍थान में होकर बुरा प्रभाव डाल रहा है और इसके कारण आपके जीवन में अनेक कठिनाईयां आ रहीं है तो आपको नवग्रह पूजन अवश्‍य करवाना चाहिए। नवग्रह पूजन की सबसे खास बात यही है कि इसे कोई भी करवा सकता है। इस पूजन से आपकी कुंडली के सभी दोष शांत होते हैं। सुख-समृद्धि और मान-सम्‍मान की प्राप्‍ति के लिए आप नवग्रह पूजन करवा सकते हैं। नवग्रह होमं में ९ ग्रहों केतु, शुक्र, सूर्य, चंद्रमा, मंगल, राहु, बृहस्पति, शनि और बुध के लिए मंत्र का जप किया जाता है। इन मंत्रों से नवग्रह को खुश किया जाता है। यह भी ग्रह शांति की प्रक्रिया के रूप में जाना जाता है। नवग्रह पूजा किसी के द्वारा किया जा सकता है, खासकर वे लोग जो  व्यापार में गंभीर वित्तीय घाटा उठा रहे है, कैरियर में विकास और सफलता के लिए, अच्छी शिक्षा के लिए, अच्छे स्वास्थ्य के लिए,वैवाहिक झगड़े को रोकने के लिए, परिवार के समस्या के लिए, कानूनी समस्या आदि के लिए ऑनलाइन पूजा का आयोजन किया जा सकता है|


आप हमसे इस तरह जुड़ें-

आप हमारी ऑनलाइन पूजा करवाने की सेवा का लाभ उठाने के लिए हमारी वेबसाइट पर जाकर पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते है। आप हमारी वेबसाइट इंडियन एस्ट्रोलॉजी पर जाकर फ़ोन नंबर प्राप्त कर सकते हैं तथा पूजा करवाने का समय ले सकते हैं, इसके अलावा आप हमारे ग्राहक सेवा प्रतिनिधि से बात करने के बाद पूजा के लिए एक निश्चित समय और तारीख ले सकते हैं। हम आपको इस बात से भी आश्वस्त करते हैं कि आपके द्वारा दी गई आपकी पर्सनल डिटेल्स बहुत ही गोपनीय रहेगी और ये जानकारी किसी दूसरे व्यक्ति के साथ किसी भी प्रकार से साझा नहीं की जायेगी। 

यदि आप ज्योतिष शास्त्र पर विश्वास करते हैं और जीवन में परेशानियों का सामना कर रहे हैं तो आज ही इंडियन एस्ट्रोलॉजी के ज्योतिष विशेषज्ञों से अपनी जन्मकुंडली दिखाए व अपने ग्रह दोषों के बारे में पता लगाकर समय रहते उनका निवारण करें| ग्रहों के अनुसार मंत्र आपके ग्रह दोषों को शांत करने में आपकी सहायता करते हैं जिससे आपके जीवन में आने वाली परेशानियाँ स्वतः ही कम होने लग जाती हैं, इसलिए किसी विद्वान पंडित द्वारा ही नवग्रह पूजा संपन्न की जानी चाहिए, यदि आप भी नवग्रह शांति पूजन करना चाहते है तो आप हमारे इंडियन एस्ट्रोलॉजी में संपर्क कर सकते हैं, हमारे पास भारत के प्रसिद्द एक्सपर्ट्स की टीम है जो आपके इस काम को पूरी तरह से कर पाने में सक्षम है|

यह भी पढ़ें: कालसर्प दोष निवारण यंत्र से मिलती है हर बाधा से मुक्ति