बॉलीवुड अभिनेत्रियाँ - विवाह पश्चात मारपीट

Rekha Kalpdev | 03-Jun-2019

Views: 439

भारतीय समाज में महिलाओं की स्थिति परिस्थितियों पर निर्भर करती है। हमारे समाज में महिलाओं को भले ही आज बराबरी का दर्जा देने की जद्दोजहद चलती रहती हो, उन्हें यथासंभव सम्मान और देवी के समान स्थान देने की बातें भी सामने आती हों, परन्तु यथार्थ में विवाह उपरांत दहेज की आग के मामले भले ही आज बहुत कम हो गए हों परन्तु घरेलू हिंसा के मामलों का प्रतिशत बढ़ता ही जा रहा है। समाज में महिलाओं के साथ हिंसा, शोषण और मारपीट की स्थिति किसी भी सभ्य समाज के माथे पर कलंक के समान है। यदि इसे एक सामाजिक रोग का नाम दिया जाए तो गलत नहीं होगा। यह रोग की जड़ें भारती समाज और भारतीय संस्कृति में गहरी समाई हुई है। वृद्ध और बच्चों को भी महिलाओं की तरह शोषण का शिकार होना पड़ता है। महिलाओं के शारीरिक रुप से कमजोर होने के कारण उस के साथ मारपीट की जाती है।

पुरुष प्रधान सामाजिक सोच के चलते पति अपनी पत्नी पर हाथ उठाकर अपनी शक्ति का प्रदर्शन करता है। यह स्थिति केवल मध्यम स्तरीय समाज के वर्ग की महिलाओं की ही नहीं हैं अपितु निम्न स्तर के समाज और यहां तक की बॉलीवुड अभिनेत्रियों को भी इसका सामना करना पड़ता है। महिलाओं के साथ इस प्रकार का शोषण चाहे किसी भी स्तर पर किया जा रहा हो, हम सभी इसका पुरजोर विरोध करते हैं। डोमेस्टिक वॉयलेंस की शिकार इन अभिनेत्रियों ने पति के खिलाफ मारपीट की शिकायत की थी। सूत्रों की मानें तो कुछ ने अपने पति के खिलाफ कोर्ट केस भी इस विषय में दर्ज कराया था। आज हम आपको कुछ ऐसी बॉलीवुड अभिनेत्रियाँ के विषय में बताने जा रहे हैं जिनके साथ विवाह के बाद मारपीट की स्थिति बनी-

रति अग्निहोत्री - अनिल विरवानी

मार्च 2015 में रति अग्निहोत्री ने अपने पति पर घरेलू हिंसा का आरोप लगाया। एक सफल व्यवसायी अनिल विरवानी से रति की शादी हुई। दोनों का एक पुत्र भी है। जिसकी बॉलीवुड में एक फिल्म भी आ चुकी है। रति सत्तर के दशक की सफल अभिनेत्री रही है। रति अग्निहोत्री ने अमिताभ बच्चन से लेकर दक्षिण भारत के अनेक प्रसिद्ध अभिनेताओं के साथ काम किया है। कुछ फिल्मों के लिए उन्हें फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित भी किया गया। प्रारम्भ में रति के वैवाहिक जीवन में सुख-शांति की खबरें आती रही, परन्तु उसके बाद घरेलू हिंसा की खबरों ने इनके फैंस को चौंका दिया। निश्चित रुप से यह चौंकाने वाली बात थी कि एक महिला अपना पूरा जीवन अपने परिवार और अपने पति को दे देती है उसके साथ मारपीट की स्थिति किसी भी स्थिति में सही नहीं है। शादी के बाद लगभग 16 साल के बाद रति ने बड़े परदे और छोटे परदे पर वापसी की।


युक्ता मुखी और प्रिंस तुली

परियों से ज्यादा सुंदर रही है, उसके जैसा बनना हर स्त्री का सपना हो सकता है। अपने सौंदर्य की रोशनी से संसार को चकाचौंध करती युक्ता मुखी के जीवन की कहानी किसी फिल्मी पटकथा से कम नहीं रही है। नाम और शोहरत जिसके कदम चूमती रही, उस महिला को वैवाहिक जीवन में शोषण और शारीरिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है तो यह खबर सबको हैरान परेशान कर सकती है। मिस वर्ल्ड रही चुकी युक्ता मुखी ने अपने करियर की ऊंचाईयों के समय में ही व्यवसायी प्रिंस तुली से शादी कर ली थी। इसके साथ ही इनके करियर को विराम लग गया। बॉलीवुड में युक्ता मुखी का करियर बहुत सफल नहीं रहा। 2014 में इन्होंने अपने पति से तलाक ले लिया है और अपने एक बेटे के साथ युक्ता आज अपना व्यवसाय देख रही है।


डिंपी महाजन - राहुल महाजन

डिपी महाजन कोलकाता की एक प्रसिद्ध मॉडल रही हैं। एक टेलीविजन शो के माध्यम से डिंपी ने राहुल महाजन से विवाह किया। दोनों का विवाह हुए अधिक समय नहीं बिता था कि डिंपी ने आरोप लगाया कि उसका पति राहु महाजन उसे जानवरों की तरह पीटता है। सूत्रों की माने तो राहुल महाजन पर इससे पूर्व की पत्नी ने भी कुछ इसी तरह के आरोप लगाए थे। इस के बाद डिंपी महाजन घर छोड़कर आ गई थी। उसके कुछ सालों बाद डिंपी महाजन ने दूसरा विवाह कर लिया तो राहुल ने भी अपना अन्य विवाह कर लिया। डिंपी द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद राहुल के माफी मांगने की खबरें भी आई थी, परन्तु जो कुछ भी हुआ वह सही नहीं था।

इसी श्रेणी में हम अब बात करेंगे श्वेता तिवारी की -


श्वेता तिवारी - राजा चौधरी

श्वेता तिवारी और राजा चौधरी को भी एक समय था कि दोनों की जोड़ी की सभी प्रशंसा करते थे। बेस्ट कपल भी उन्हें कहा जा सकता था। दोनों का विवाह हुआ राजा चौधरी के साथ हुआ तो इससे श्वेता के फैंस निराश अवश्य हुए। परन्तु इससे अधिक निराशा उनके फैंस को उस समय हुई, जब श्वेता को उसके पति ने मारना पीटना शुरु कर दिया। आज दोनों एक दूसरे के लिए फिर से अजनबी बन गए हैं और अलग अलग जीवनयापन कर रहे हैं। परन्तु इसमें कोई दोराय नहीं की घरेलू हिंसा की स्थिति का समय निश्चित रुप से श्वेता तिवारी के लिए किसी दुखद स्वप्न जैसा रहा होगा।

इसके बाद भी अनेक अभिनेत्रियों ने अपने पति पर कुछ इस तरह के आरोप लगाए हैं कि उन्हें पारिवारिक जीवन में घरेलू हिंसा का शिकार होना पड़ता है। आज के प्रगतिशील समय में जब नारी को बराबर का अधिकार देने की बात कहीं जाती है तो नारी की स्थिति 18 वीं शताब्दी की याद दिलाती है। इस तरह के किस्सों की चर्चा करना किसी को सुखद नहीं लगता है। परन्तु इस तरह की घटनाएं यह सुनिश्चित करती है कि बालीवुड़ की चकाचौंध के अंदर एक स्याह अंधेरा है, वहां भी महिलाओं के साथ अनेक अत्याचार और शोषण होते रहते है। जिनमें से कुछ सामने आते हैं और कुछ खामोसी के साथ सहन कर लिए जाते हैं। यह स्थिति क्यों बनती है। जन्मपत्री में ऐसे कौन से योग होते हैं जिनके कारण किसी महिला को विवाह के पश्चात घरेलू हिंसा का सामना करना पड़ता हैं।


घरेलू हिंसा और मारपीट के ज्योतिषीय योग

वैदिक ज्योतिष में मंगल ग्रह को आवेश, जोश, क्रोध, वाद-विवाद और झगड़ों का कारक ग्रह माना गया है और राहु को बुरी संगतों और तामसिक प्रवृतियों का कारक ग्रह माना गया है। मंगल-राहु की युति व्यक्ति को नकारात्मक व्यवहार करने की आदतें देती है। मंगल अकेला होने पर अधिक झगड़ा करने का स्वभाव नहीं देता है, बल्कि जब इसे राहु का साथ मिलता है तो यह विध्वंसकारी हो जाता है। इस स्थिति में जातक आपा खोकर मारपीट करता है। फिल्म स्टार सलमान खान की कुंडली में देखा जा सकता है कि राहु-मंगल की युति है और जैसा की सूत्र बताते है कि सलमान खान और ऐश्वर्या राय का विवाह इसी वजह से नहीं हो पाया था, क्योंकि सलमान खान अपना आपा खोकर ऐश्वर्या राय पर हाथ उठा देते थे।

• मंगल-राहु का यह योग यदि सप्तम भाव में बन रहा हो तो वैवाहिक जीवन में मारपीट की स्थिति जल्द बन सकती है।

• जन्मपत्री में यदि मंगल-राहु का यो हो तो व्यक्ति को जब क्रोध आता है तो जातक अपने क्रोध को रोक नहीं पाता है तो वह क्रोध में बड़ा कदम उठाता है। जातक का क्रोध उसके स्वयं के लिए और उससे जुड़े व्यक्तियों के लिए कष्ट का कारण बन जाता है। वैवाहिक जीवन में आपसी लड़ाई झगड़ों की स्थिति अंतत: तलाक तक लेकर जाती है।

• जन्मपत्री में मंगल-शनि की युति हों, शनि यदि शुक्र की राशि में होते हैं तो वैवाहिक जीवन में तनाव, लड़ाई झगड़ों के चलते मारपीट और तलाक की वजह बनता है।

• विवाह भाव में पाप ग्रहों का होना, जिसमें केतु, मंगल या राहु हों तो वैवाहिक जीवन में शांति की कमी रहती है।

• चंद्र और शुक्र पाप ग्रहों के प्रभाव में होना, वैवाहिक सुख को प्रभावित करता है। ऐसे जातक का वैवाहिक जीवन कष्टमय रहता है और तलाक की स्थिति बनती है।

• विवाह भाव में सूर्य का होना और बुध से युति होने पर महिला का पति उसका त्याग करता है या फिर दोनों का वैवाहिक जीवन तनावमय रहता है।

• लग्न भाव में राहु-शनि की युति हो तो जातक को अपने व्यवहार के कारण अलग होना पड़ता है।

• मारपीट, झगडों और तलाक के मामलों में यह आवश्यक है कि विवाह भाव पर अशुभ ग्रहों का प्रभाव हों, विवाह भाव का स्वामी पाप ग्रहों के प्रभाव में हो और कारक शुक्र/गुरु भी पीडित हों।

• विवाह भाव का स्वामी एवं शयन भाव में हों तो व्यक्ति को वैवाहिक सुख नहीं मिलता है और विवाह की स्थिति तलाक तक पहुंचती है।