राजनीति में ग्लैमर का तड़्का - लोक सभा चुनाव 2019

Rekha Kalpdev | 23-Apr-2019

Views: 743

ग्लैमर और राजनीति दोनों को एक दूसरे का साथ मिलता रहा है। यह रिश्ता बहुत पुराना है। राजनेता फिल्म जगत में और फिल्म जगत राजनीति में प्रवेश करता रहा है। फिल्म जगत में बहुत से ऐसे कलाकार हैं, जिन्होंने ग्लैमर जगत में अपना पहचान बनाने के बाद राजनीति में अपनी जगह बनाई है। आज फिल्म कलाकारों का राजनीति में भाग लेना आम बात है। ऐसे बहुत से स्टार्स हैं जिन्होंने फ़िल्मी करियर छोड़ कर राजनीति में करियर बनाया और कुछ ऐसे भी कलाकार हैं जो फिल्मों के साथ राजनीति में भी एक्टिव रहे। दोनों का साथ आज चोली दामन जैसा हो गया है। दोनों एक दूसरे के बिना अधूरे है। राजनीति गलियारों में आजकल लोकसभा चुनावों की गर्माहट देखी जा सकती है। अप्रैल माह में होने वाले चुनावों पर ग्लैमर का रंग चढ़ता जा रहा है। फिल्मी जगत और राजनीति दो अलग-अलग दुनिया हैं। खास बात यह है कि जब दो दुनिया मिलती है तो दोनों को एक दूसरे का लाभ मिलता है।

फिल्म जगत के गायक हो, नायक हो, महानायक हो, नायिकाएं हो, गीतकार, संगीतकार, फिल्म डायरेक्टर्स सब फिल्म जगत की चकाचौंध में चमकने के बाद जब भी इन्हें राजनीति में आने का मौका मिलता है तो ये पीछे नहीं हटते हैं। चुनावी दंगल में सौंदर्य की चमक लाने, और फिल्म जगत की लोकप्रियता को भुनाने के लिए पार्टियां भी हाथों-हाथ इस अवसर का लाभ उठाती है। फिल्म स्टार्स की लोकप्रियता आज किसी से छुपी नहीं है। इनके फैंस लाखों करोड़ों में होते है, हम सभी किसी न किसी फिल्म स्टार्स या गायक के फैंन्स है। ग्लैमर्स जगत को अर्श कहा जाए तो राजनीति को फर्श कहना गलत नहीं होगा क्योंकि ग्लैमर्स जगत में काल्पनिक कहानियों को अभिनीत किया जाता है और राजनीति में आपको जनता के बीच खड़े होकर वास्तविक धरातल पर काम करके दिखाना होता है।

यूं तो धरती-गगन कहीं मिलते नहीं हैं फिर भी दोनों के मिलने को क्षितिज का नाम दिया जाता है। कुछ ऐसी ही स्थिति फिल्म जगत के राजनीति में प्रवेश के समय होती है। अपने प्रशंसकों की अपेक्षाओं पर खरा उतरने के लिए और समाज में बदलाव का बीड़ा उठाने के लिए इस बार के लोकसभा चुनाव में भी एक के बाद एक अनेक फिल्म स्टार्स एन्ट्री कर चुके है। कुछ सितारों का राजनीति में यह प्रवेश "कुर्सी" की चाह हो सकता है तो कुछ के लिए उनके करियर के पतन का कारण भी हो सकता है। आईये जाने कि इस लोकसभा चुनाव में मुख्य रुप से कौन से फिल्मी कलाकारों ने राजनीति में प्रवेश किया है और यह चुनावी सफर इनके लिए कैसा रहेगा-

फिल्म जगत से राजनीति में कदम रखने वालों की सूची बहुत लम्बी हैं, जिसमें अमिताभ बच्चन से लेकर, स्मृति ईरानी, मनोज तिवारी, प्रकाश राम, किशन कुमार, राजबब्बर और दिनेश लाल निरहुआ और उर्मिला मांतोड़्कर तक है। जब भी फिल्म जगत के सितारें राजनीति में आये है, कुछ को उम्मीद से बढ़कर सफलता मिली है तो कुछ की छवि धूमिल हुई है। इस विषय में वैदिक ज्योतिष शास्त्र क्या कहता है, और इनकी कुंडली क्या कहती हैं आईये जानें-

हेमा मालिनी कुंड्ली विश्लेषण

अभिनेत्री-राजनीतिज्ञ हेमा मालिनी ने 2004 में राजनीति में कदम रखा और लोकसभा चुनाव 2019 में ये मथुरा से बीजेपी के लिए चुनाव लड़ रही है। अपने अद्भुत सौंदर्य और साफ सुथरी छवि के साथ हेमा मालिनी एक बार फिर से अपने फैंस की उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करेंगी। इस चुनाव को जीतने के लिए हेमा जी खेतों में जाकर गेहूं काटने से भी नहीं चूक रही है। मतलब जनता को प्रभावित करने का कोई मौका नहीं छोड़ रही है। दिलचस्प बात यह है कि संजीव कुमार को छोड़कर शोले फिल्म के सभी कलाकारों ने - जया बच्चन, अमिताभ बच्चन, हेमा मालिनी और धर्मेंद्र ने राजनीति में अपना हाथ आजमाया है।

कर्क लग्न, मीन राशि की कुंडली में ड्रीम गर्ल हेमा जी का जन्म हुआ। पंचमेश और दशमेश मंगल योगकारक होकर स्वराशि में पंचम भाव में स्थित है, भाग्येश गुरु अपनी मूलत्रिकोण राशि में स्थित होने के कारण भाग्य को बल दे रहे है। दशम भाव में राहु की स्थिति ने हेमा जी को राजनीति में प्रवेश दिया और इस समय इनकी कुंड्ली में चंद्र महादशा में राहु की अंतर्द्शा प्रभावी है। राहु की यह अंतर्द्शा इनके करियर को एक नई ऊंचाई देगी। गोचर में इस समय शनि-केतु इनके विरोधी भाव और राहु व्यय भाव पर गोचर कर रहे है और चुनाव परिणाम के दिन मंगल गोचर में इनके विदेश भाव से सप्तम दॄष्टि देकर विरोधियों को परास्त कर रहे है। यह दशा, गोचर और ग्रह स्थिति आने वाले चुनावों के लिए बहुत अनुकूल बनी हुई है। महादशानाथ चंद्र इनके लग्नेश है और यह महादशा 2027 तक रहेगी। राहु के बाद आने वाली अंतर्द्शाएं गुरु एवं शनि ग्रह की है, ये दशाएं भी शुभफलकारी और अनुकूल फलदायक रह सकती है।

जया प्रदा

पूर्व बॉलीवुड अभिनेत्री जयाप्रदा ने बॉलीवुड को अलविदा कह दिया और राजनीति में कदम रखा। जया प्रदा एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री और राजनीतिज्ञ हैं। वह दो फिल्मफेयर पुरस्कारों की प्राप्तकर्ता हैं और उन्होंने तेलुगु, तमिल, हिंदी, कन्नड़, मलयालम, बंगाली और मराठी फिल्मों में अभिनय किया है। वह 2004 से 2014 तक रामपुर से सांसद (सांसद) रहीं। वह अपने समय की सबसे सफल अभिनेत्रियों में से एक थीं। उन्होंने अपने करियर के चरम पर फिल्म उद्योग छोड़ दिया। जयाप्रदा ने लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी पार्टी में प्रवेश किया है और वो रामपुर से आजमखान के खिलाफ इस बार चुनाव लड़ने वाली है।

इनकी कुंडली कर्क लग्न व मकर राशि की कुंडली है। लग्न में चंद्र की राशि इन्हें कला जगत से जोड़ रही है। इनकी कुंड्ली में राहु/केतु मूलत्रिकोणस्थ है। शनि धनुराशि में स्थित है। दशम भाव में कलाकारक ग्रह शुक्र की स्थिति है। वर्तमान में इनकी कुंडली में बुध महादशा में बुध की अंतर्द्शा प्रभावी है। बुध इनके लिए तीसरे और बारहवें भाव के स्वामी होकर भागय भाव में स्थित है। इस कुंडली में भाग्य भाव पर भाग्येश गुरु की पंचम दॄष्टि होने के कारण भाग्य भाव मजबूत है। आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए बुध की इनकी दशा बहुत अच्छी नहीं रहने वाली है। गोचर में शनि इनके जन्म शनि पर गोचर कर रहे हैं और गोचर गुरु दशम भाव को पंचम दॄष्टि से सक्रिय कर रहे हैं परन्तु चुनाव के मध्य में वक्री होकर इनके पंचम भाव पर वापसी भी कर रहे हैं। इस स्थिति में चुनाव जीतने की उम्मीदें बहुत कमजोर बन रही है। विरोधी अधिक शक्तिशाली बने हुए है। सावधानी रखने से स्थिति बेहतर की जा सकती है।

स्मृति ईरानी

स्मृति जुबिन ईरानी एक भारतीय राजनीतिज्ञ, पूर्व मॉडल, टेलीविजन अभिनेत्री और निर्माता हैं। स्मृति ईरानी ने टेलीविजन से राजनीति में कदम रखा। कांग्रेस के सबसे बड़े नेता राहुल गांधी के सम्मुख स्मृति ईरानी को चुनावी टिकट दिया गया है। देखना यह है कि क्या इस बार स्मृति ईरानी जीत हासिल कर पायेंगी या पूर्व की तरह हार जायेंगी। स्मृति ईरानी के जन्म समय के अभाव में उनकी चंद्र कुंडली का विश्लेषण हम यहां कर रहे हैं।

23 मार्च 1976, दिल्ली

स्मृति ईरानी का जन्म धनु राशि में हुआ। एकादश भाव में राहु की स्थिति इनके राजनीति में आने का संकेत दे रही है। दशम भाव पर दशमेश बुध की दॄष्टि, देव गुरु की दॄष्टि भाग्य, आय और राशि भाव पर होने के कारण यहां तीनों त्रिकोण एक साथ संबंधित हो रहे है। धन भाव को भी धनेश शनि देख रहे है। भाग्येश सूर्य भी चतुर्थ भाव में बुद्ध आदित्य योग बनाते हुए कर्म भाव पर अपना प्रभाव डाल रहे हैं। इस प्रकार यहां अनेक शुभ योग बने हुए है। दशम भाव पर बुद्धिकारक ग्रह, और सत्ता कारक ग्रह का प्रत्यक्ष प्रभाव इन्हें राजनीति में बुद्धिबल से सत्ता की प्राप्ति दे रहा है। वर्तमान में इनकी जन्मराशि पर शनि की साढ़ेसाती प्रभावी है। शनि की साढ़ेसाती राजनीति में सफलता प्राप्त करने के लिए अत्यंत शुभ मानी जाती है। लगभग तीन से चार साल अभी शनि साढ़ेसाती का प्रभाव इन पर रहेगा। तब तक राजनीति क्षेत्र में इनकी पैठ बनी रहेगी।

उर्मिला मातोंडकर

जैसे-जैसे चुनावी महाभारत का रण सज रहा है, वैसे-वैसे महारथी इस जंग में लड़ने के लिए मन बनाते नजर आ रहे है। कुछ एक पार्टी छोड़कर दूसरी पार्टी में जा रहे हैं तो किसी को उसी की पार्टी टिकट नहीं दे रही है। कुछ समय पूर्व ही कांग्रेस पार्टी ने उर्मिला मातोंडकर के उत्तरी मुंबई से चुनाव लड़ने की आधिकारिक घोषणा कर दी है। उर्मिला मातोंडकर 1991 से फिल्मों में प्रवेश किया। इनकी चंद्र कुंड्ली में चंद्र मिथुन राशि में स्थित है। चंद्र को शनि और केतु की युति का साथ मिल रहा है। एकादशेश एकदश भाव में स्थित है, जो आय, उन्नति और सफलता को बल प्रदान कर रहे हैं। राहु और केतु दोनों उच्चस्थ है। सूर्य, शुक्र और गुरु तीनों अष्टम भाव में स्थित है। सत्ता कारक सूर्य का गुरु के साथ अष्टम भाव में होना, राजनैतिक सफलता में बाधा दर्शा रहा है। वर्तमान में शनि और केतु की युति गोचर में बनी हुई है। गोचर शनि सप्तम भाव पर गोचर कर रहे हैं, गुरु भी चुनावी परिणाम के दिन इनके शत्रु भाव पर विचरण करेंगे। अत: सफलता अभी दूर नजर आ रही है।

मुनमुन सेन कुंडली विश्लेषण

पश्चिमी बंगाल से लगभग 5 सीटों पर फिल्मी कलाकारों को चुनावी मैदान में उतारा गया है। पुरुषों की तुलना में तृणमूल पार्टी ने 41 प्रतिशत महिलाओं को टिकट दिया हैं, उसमें भी महिलाओं को आगे रखा गया है। इन्हीं में से एक मुनमुन सेन है। ये तृणमूल पार्टी की आसनसोल क्षेत्र से उम्मीदवार है। मुनमुन सेन राजनीति के खेल की पुरानी खिलाड़ी है, और 2014 से राजनीति में है। हिंदी, बंगाली, तमिल, तेलुगू, उड़िया अनेक भाषाओं में मुनमुन सेन अपने अभिनय का लोहा मनवा चुकी है। देखना यह है कि क्या मुनमुन सेन लोकसभा चुनाव 2019 में भी अपनी जीत हासिल कर पायेंगी। इनकी चंद्र कुंड्ली वृश्चिक राशि की है। चंद्र लग्न में चंद्र-मंगल योग इन्हें खूबसूरत व्यक्तित्व के साथ साथ धन भी दे रहा है। राहु/केतु नीचस्थ है, शनि द्वादश में उच्चस्थ है। उच्चस्थ शनि उम्मीद से अधिक सफलता देते है। पंचम भाव में उच्चस्थ शुक्र को कर्मेश और सत्ताकार सूर्य का साथ मिल रहा है। वर्तमान में गोचर शनि इनकी जन्मराशि से द्वितीय भाव पर है। शनि की यह स्थिति इन्हें साढ़ेसाती दे रही है। साढ़ेसाती का यह प्रभाव 2020 के प्रारम्भ तक रहेगा। राहु इस समय इनके अष्टम भाव, गोचर में गुरु चुनाव परिणाम के दिन वक्री अवस्था में इनकी जन्मराशि पर विचरण करेंगे। अत: सफलता प्राप्ति के लिए इन्हें संघर्ष और मेहनत अधिक करनी होगी, अन्यथा सफलता हाथ से जा सकती है।

दिनेश लाल यादव (निरहुआ)

भोजपुरी सिनेमा जगत में दिनेश लाल यादव जिन्हें निरहुआ के नाम से अधिक जाना जाता है। फिल्मी कलाकारों में निरहुआ एक मात्र ऐसे कलाकार है जिनके नाम से फिल्में के टाईटल रखे जाते हैं। निरहुआ रिक्शावाला, निरहुआ… आदि आदि। बीजेपी पार्टी की सदस्यता ले चुके दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ अभिनय के क्षेत्र में पहले से ही नाम कमा चुके है, अब वो राजनीति में अपना नाम रोशन करने जा रहे है। लोकसभा चुनाव 2019 में निरहुआ बीजेपी पार्टी के उम्मीदवार बने है।

निरहुआ का जन्म मीन राशि में हुआ। इनके आय भाव में बुध, सूर्य और मंगल है। इसमें मंगल उच्चस्थ है और ठीक सामने पंचम भाव में गुरु उच्चस्थ है। उच्चस्थ गुरु की दॄष्टि भाग्य भाव और आय दोनों पर होने के फलस्वरुप इन्हें दिनोंदिन सफलता प्राप्त हुई। पंचम भाव मनोरंजन का भाव है यहां उच्च का गुरु इनकी सफलता को चार चांद लगा रहा है। यह कुंड्ली फिल्म जगत में सफलता के पर्याप्त योग लिए हुए है, सत्ता कारक सूर्य आय भाव में है। इस समय शनि इनके दशम भाव पर गोचर कर रहे हैं। गोचर में राहु चतुर्थ भाव पर और केतु भी दशम भाव पर हैं। शनि का गोचर यह कहता है कि इस समय सफलता हासिल करने के लिए प्रतियोगियों की गतिविधियों पर ध्यान देना होगा, जिसके लिए बहुत मेहनत भी करनी होगी।